कामचोर

Sponsor Area

Question
CBSEENHN8001128

‘कामचोर’ कहानी क्या संदेश देती है? 

Solution

‘कामचोर’ कहानी यह संदेश देती है कि बच्चों को घर के कामों से अनभिज्ञ नहीं होना चाहिए। कुछ छोटे-मोटे कार्यो को करने की आदत डालनी चाहिए। माता-पिता को भी चाहिए कि बच्चों से छोटे-छोटे कार्य करवा कर उन्हें काम करने की आदत डालें। न कि उन्हें पूर्णतया नौकरों पर निर्भर कर दें।
इस पाठ में भी यही दर्शाया है कि पहले तो माता-पिता ने बच्चों को काम करने की आदत डाली नहीं और जब उन्हें काम करने को कहा तो वे बेचारे कुछ कर नहीं पाए इसमें उनका भी कोई कसूर न था। अपनी ओर से तो उन्होंने कार्य करने की पूरी कोशिश की थी।

Sponsor Area

Some More Questions From कामचोर Chapter

‘कामचोर’ कहानी एकल परिवार की कहानी है या संयुक्त परिवार की? इन दोनों तरह के परिवारों में क्या-क्या अंतर होते हैं?

घरेलू नौकरों को हटाने की बात किन-किन परिस्थितियों में उठ सकती है? विचार कीजिए।

कहानी में एक समृद्ध परिवार के ऊधमी बच्चों का चित्रण है। आपके अनुमान से उनकी आदत क्यों बिगड़ी होगी? उन्हें ठीक ढंग से रहने के लिए आप क्या-क्या सुझाव देना चाहेंगे?

किसी सफल व्यक्ति की जीवनी से उसके विद्यार्थी जीवन की दिनचर्या के बारे में पढ़ें और सुव्यवस्थित कार्यशैली पर एक लेख लिखें।

 “धुली -बेधुली बालटी लेकर आठ हाथ चार थनों पर पिल पडे।” धुली शब्द से पहले 'बे' लगाकर बेधुली बना है। जिसका अर्थ है 'बिना धुली' ‘बे’ एक उपसर्ग है। ‘बे’ उपसर्ग से बननेवाले कुछ और शब्द हैं-
बेतुका, बेईमान, बेघर, बेचैन, बेहोश आदि। आप भी नीचे लिखे उपसर्गों से बननेवाले शब्द खोजिए-
1. प्र .........................
2. आ .........................
3. भर .........................
4. बद .........................

इस पाठ का मुख्य आधार क्या है?

किसी-किसी परिवार के बच्चे काम क्यों नहीं करते?

बच्चों ने किस लालच में कार्य किए?

बच्चों द्वारा घर के काम करने के कारण पूरे घर का अब क्या हाल था?

इस कहानी से क्या सीख मिलती है?