ध्वनि

Question
CBSEENHN8000428

वसंत पर अनेक सुंदर कविताएं हैं। कुछ कविताओं का संकलन तैयार कीजिए।

Solution

जब वसंत आकर मुसकाय।; पीलापन व्यवहार हुआ।
खेतों में फसलें चहकी हैं: यह वसंत त्योहार हुआ।।
पंचायत मेरे गाँव की; मौन तोड़ती है अपना
और यही चर्चा चौपाल पर; ये फसलें हैं धन अपना,
आज नया दरबार लगा है; सब मौलिक अधिकार हुआ।
जब वसंत आकर मुसकाया: पीलापन व्यवहार हुआ।।
सरसों के फूले खेतों पर, खुशी मनाकर हम हँस लें
कुन्दन सी बनकर लहकी है; देखो खेतों की फसलें,
बापू की लाठी को थामे, रमुआ मग्न विचार हुआ।
जब वसंत आकर मुसकाया, पीलापन व्यवहार हुआ।। कवि-मनोहरलाल ‘रत्नम’

Sponsor Area

Some More Questions From ध्वनि Chapter

कवि अपनी कविता में एक कल्पनाशील कार्य की बात बता रहा है। अनुमान कीजिए और लिखिए कि उसके बताए कार्यो का अन्य किन-किन संदर्भो से संबंध जुड़ सकता है? जैसे नन्हे-मुन्ने वालक कौ माँ जगा रही हो ...।

 ‘हरे-हरे’, ‘पुष्प-पुष्प’ में एक शब्द की एक ही अर्थ में पुनरावृत्ति हुई है। कविता के ‘हरे-हरे ये पात’ वाक्यांश में ‘हरे-हरे’ शब्द युग्म पत्तों के लिए विशेषण के रूप में प्रयुक्त हुए हैं। यहाँ ‘पात’ शब्द बहुवचन में प्रयुक्त है। ऐसा प्रयोग भी होता है जब कर्ता या विशेष्य एक वचन में हो और कर्म या क्रिया या विशेषण बहुवचन में; जैसे-वह लंबी-चौड़ी बातें करने लगा। कविता में एक ही शब्द का एक से अधिक अर्थों में भी प्रयोग होता है- “तीन बेर खाती ते वे तीन बेर खाती है।” जो तीन बार खाती थी वह तीन बेर खाने लगी है। एक शब्द ‘बेर’ का दो अर्थो में प्रयोग करने से वाक्य में चमत्कार आ गया। इसे यमक अलंकार कहा जाता है। कभी-कभी उच्चारण की समानता से शब्दों की पुनरावृत्ति का आभास होता है जबकि दोनों दो प्रकार के शब्द होते हैं; जैसे-मन का मनका।

ऐसे वाक्यों को एकत्र कीजिए जिनमें एक ही शब्द की पुनरावृत्ति हो। ऐसे प्रयोगों को ध्यान से देखिए और निन्नलिखित पुनरावृत शब्दों का वाक्य में प्रयोग कीजिए- बातों-बातों में रह- रहकर, लाल- लाल, सुबह- सुबह. रातों- रात, घड़ी- घड़ी।

 

‘कोमल गात, मृदुल वसंत, हरे-हरे ये  पात’

विशेषण जिस संज्ञा (या सर्वनाम) की विशेषता बताता है, उसे विशेष्य कहते हैं। ऊपर दिए गए वाक्यांशों में गात, वसंत और पात शब्द विशेष्य हैं, क्योंकि इनकी विशेषता (विशेषण) क्रमश: कोमल, मृदुल और हरे-हरै शब्द बता रहे हैं।

हिंदी विशेषणों के सामान्यतया चार प्रकार माने गए हैं- गुणवाचक विशेषण, परिमाणवाचक विशेषण, संख्यावाचक विशेषण और सार्वनामिक विशेषण।

वसंत पर अनेक सुंदर कविताएं हैं। कुछ कविताओं का संकलन तैयार कीजिए।

शब्दकोश में ‘वसंत’ शब्द का अर्थ देखिए। शब्दकोश में शब्दों के अर्थो के अतिरिक्त बहुत-सी अलग तरह की जानकारियाँ भी मिल सकती हैं। उन्हें अपनी कॉपी में लिखिए।

कविता का शीर्षक ‘ध्वनि’ इस शब्द से आप क्या समझते हैं?

कवि ने प्रकति के साथ किस प्रकार अपने जीवन का तादाम्प जोड़ा है?

 क्या कविता का शीर्षक ‘ध्वनि’ सार्थक है?

इस कविता से हमें क्या संदेश मिलता है?

ध्वनि कविता में मुख्य रूप से क्या दर्शाया गया है?