बल तथा गति के नियम

  • Question
    CBSEHHISCH9007015

    गति के तृतीय नियम के अनुसार जब हम किसी वास्तु को धक्का हैं, तो वस्तु उतने ही बल के साथ हमें भी विपरीत दिशा में धक्का देती है। यदि वह वस्तु एक ट्रक है जो सड़क के किनारे खड़ा है; संभवत: हमारे द्वारा बल आरोपित करने पर भी गतिशील नहीं हो पाएगा। एक विद्यार्थी इसे सही साबित करते हुए कहता है कि दोनों बल विपरीत एवं बराबर हैं जो एक-दूसरे का निरस्त कर देते हैं इस तर्क पर अपना विचार दें और बताएँ कि ट्रक गतिशील क्यों नहीं हो पाता।

    Solution

    विद्यार्थी का तर्क गलत है यही सही है कि क्रिया तथा प्रतिक्रिया के बल विपरीत एवं बराबर होते हैं परन्तु ये बल कभी भी एक ही वस्तु पर कार्य नहीं करते। जैसेकि इस उदाहरण में, हमारे द्वारा आरोपित बल ट्रक पर लगेगा, जबकि ट्रक का प्रतिक्रिया बल हम पर लगेगा। ट्रक के गतिमान होने का संबंध केवल ट्रक पर लगने वाले बल से है न कि हमारे द्वारा लगे प्रतिक्रिया बल से। अत: क्रिया-प्रतिक्रिया के बलों को निरस्त होने का कोई प्रश्न नहीं उठता। हमारे द्वारा ट्रक पर बल आरोपित किए जाने पर भी ट्रक गतिशील नहीं हो पाता, इसका कारण यह है कि ट्रक पर इस बल के अतिरिक्त पृथ्वी द्वारा आरोपित घर्षण बल भी लगा है जोकि हमारे द्वारा आरोपित बल को संतुलित कर देता है।

    NCERT Book Store

    NCERT Sample Papers

    Entrance Exams Preparation