Question
CBSEENHN8001435

भारतीयों पर ‘भारतीयता की गहरी छाप’ कैसे दिखाई पड़ती है?

Solution

नेहरू जी जब भी पूरे भारत का अवलोकन करते तो पाते कि बंगाली, मराठी, गुजराती, तमिल, आध, उड़िया, असमी, कन्नड़, मलयाली, सिंधी, पंजाबी, पठान, कश्मीरी, राजपूत और हिंदुस्तानी भाषा बोलने वाली विशाल जनता से बसा मध्य भारत सैकड़ों वर्षो से अपनी अलग-अलग पहचान बनाने के बावजूद, आंतरिक भावनाओं से सभी एक हैं। सबकी एक विरासत है, नैतिक व मानसिक धारणाएँ भी समान हैं। कितनी ही विदेशी जातियों ने भारत पर आक्रमण किए व सत्ता भी कायम की लेकिन भारतीयों की भारतीयता अर्थात् भारत की सभ्यता व संस्कृति को कोई डगमगा नहीं सका। इसीलिए यह कहना असत्य नहीं कि भारतीयों पर भारतीय की गहरी छाप दिखाई देती है।

Sponsor Area

Some More Questions From तलाश Chapter

हिमालय के हृदय से कौन-कौन सी मुख्य नदियाँ निकलती हैं?

सिंधु नदी की क्या विशेषता है?

कौन-कौन से स्थान के किले व मूर्तियाँ भारत की प्राचीन सभ्यता का सुंदर चित्र खींचती हैं?

विशाल पर्व कुंभ स्नान पर्व के बारे में नेहरू जी के क्या विचार थे?

प्राचीन संस्कृति को मानते हुए जवाहरलाल नेहरू को महात्मा बुद्ध, अशोक व अकबर कैसे प्रतीत हुए?

‘भारत के अतीत की झाँकी’ के अवलोकन से नेहरु क्या निष्कर्ष निकालते हैं?

क्या नेहरू जी का भारत के इतिहास का एक आलोचक की भाँति निरीक्षण करना सही था?

नेहरू जी ने भारत का विश्लेषण एक आलोचक की भाँति क्यों किया?

मोहनजोदड़ो वर्ष कितने वर्ष पूर्व निर्मित हुआ?

सिंधु घाटी की क्या विशेषता थी?