जब सिनेमा ने बोलना सीखा

Sponsor Area

Question
CBSEENHN8000799

मूक फिल्म देखने का एक उपाय यह है कि आप टेलीविजन की आवाज़ बंद करके फिल्म देखें। उसकी कहानी को समझने का प्रयास करें और अनुमान लगाएँ कि फिल्म में संवाद और दृश्य की हिस्सेदारी कितनी है?

Solution

यदि टेलीविजन की आवाज बंद करके फिल्म देखें तो हम पाएँगे कि संवाद और दृश्य ही फिल्म को प्रभावी बनाते हैं, एकाग्रता उत्पन्न करते हैं।
जबकि मूक फिल्में कई बार नीरस लगने लगती हैं। कई बार उनमें बहुत सी बातें स्पष्ट भी नहीं हो पाती।

Sponsor Area

Some More Questions From जब सिनेमा ने बोलना सीखा Chapter

उपसर्ग और प्रत्यय दोनों ही शब्दांश होते हैं। वाक्य में इनका अकेला प्रयोग नहीं होता। इन दोनों में अंतर केवल इतना होता है कि उपसर्ग किसी भी शब्द में पहले लगता है और प्रत्यय बाद में। हिंदी के सामान्य उपसर्ग इस प्रकार हैं-अ/अन, नि, दु, क/कु, स/सु, अध, बिन, औ आदि।
पाठ में आए उपसर्ग और प्रत्यय युक्त शब्दों के कुछ उदाहरण नीचे दिए जा रहे हैं-
मूल शब्द      उपसर्ग       प्रत्यय        शब्द
वाक्            स            -             सवाक्
लोचन          सु            आ            सुलोचना
फिल्म          -             कार          फिल्मकार
कामयाब        -             ई             कामयाबी
इस प्रकार के 15-15 उदाहरण खोजकर लिखिए और अपने सहपाठियों को दिखाइए।

सवाक् फिल्म से आप क्या समझते हैं?

‘आलम आरा’ फिल्म में किन वाद्य यंत्रों का प्रयोग किया गया?

फिल्म निर्माता अर्देशिर की कंपनी ने लगभग कितनी फिल्मों का निर्माण किया?

स्टंटमैन’ व ‘फैंटेसी’ शब्दों से आप क्या समझते हैं?

दर्शकों हेतु यह फिल्म अनोखा अनुभव कैसे थी?

सवाक् फिल्मों हेतु क्या आधार चुने गए?

‘आलम आरा’ ने किस-किस देश में सफलता पाई?

भारतीय सिनेमा के जनक कौन माने जाते हैं?

फाल्के ने अर्देशिर की किस उपलब्धि को अपनाया?