अकबरी लोटा

Question
CBSEENHN8000973

जहाँगीरी अंडा क्या है? कहानी के आधार पर स्पष्ट कीजिए।

Solution

'जहाँगीरी अंडा’ भी अकबरी लोटे की तरह अंग्रेज़ को मूर्ख बनाकर ठगने की एक घटना पर आधारित है। जिस तरह पं. बिलवासी मिश्र एक अंग्रेज़ को एक साधारण व अनचाहा लोटा पाँच सौ रुपए में उसे ‘अकबरी लोटा’ बताकर बेच देते है उसी प्रकार अंग्रेज डगलस भी लूटा गया होगा। कहानी के अनुसार नूरजहाँ से जब जहाँगीर ने पूछा कि उसने एक कबूतर कैसे उड़ा दिया तो उसने दूसरा कबूतर उड़ाकर कहा कि ‘ऐसे’। उसके यह कहने पर वे उस पर मुग्ध हाे गया। उन्हें लगा कि कबूतर के कारण ही उन्हें नूरजहाँ से प्रेम हुआ है। उन्होंने कबूतर पर प्रसन्न होकर उसके एक अंडे को काँच की हांडी में सुरक्षित रख दिया। बाद में वही अंडा ‘जहाँगीरी अंडे’ के नाम से प्रसिद्ध हुआ।

Sponsor Area

Some More Questions From अकबरी लोटा Chapter

बिलवासी जी ने रुपयों का प्रबंध कहाँ से किया था? लिखिए।

आपके विचार से अंग्रेज़ ने यह पुराना लोटा क्यों खरीद लिया? आपस में चर्चा करके वास्तविक कारण की खोज कीजिए और लिखिए।

“इस भेद को मेरे सिवाए मेरा ईश्वर ही जानता है। आप उसी से पूछ लीजिए। मैं नहीं बताऊँगा।”
बिलवासी जी ने यह बात किससे और क्यों कही? लिखिए।

“उस दिन रात्रि में बिलवासी जी को देर तक नींद नहीं आई।”
समस्या झाऊलाल की थी और नींद बिलवासी की उड़ी तो क्यों? लिखिए।

“लेकिन मुझे इसी जिंदगी में चाहिए।”
“अजी इसी सप्ताह में ले लेना।”
“सप्ताह से आपका तात्पर्य सात दिन से है या सात वर्ष से?”
झाऊलाल और उनकी पत्नी के बीच की इस बातचीत से क्या पता चलता है? लिखिए।

अंग्रेज़ लोटा न खरीदता?

यदि अंग्रेज़ पुलिस को बुला लेता?

जब बिलवासी अपनी पत्नी के गले से चाबी निकाल रहे थे, तभी उनकी पत्नी जाग जाती?

“अपने वेग में उल्का को लजाता हुआ वह आँखों से ओझल हो गया।”
उल्का क्या होती है? उल्का और ग्रहों में कौन-कौन सी समानताएँ और अंतर होते हैं?

“इस कहानी में आपने दो चीज़ों के बारे में मजेदार कहानियाँ पढ़ी - अकबरी लोटे की कहानी और जहाँगीरी अंडे की कहानी।”
आपके विचार से ये कहानियाँ सच्ची हैं या काल्पनिक?