वायु तथा जल का प्रदूषण

  • Question 5
    CBSEHHISCH8006606

    शुद्ध वायु तथा प्रदूषित वायु में अंतर स्पष्ट कीजिए?

    Solution

    शुद्ध हवा में 78% नाइट्रोजन, 21% ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड, आर्गन, मीथेन, ओजोन और जल वाष्प भी बहुत कम मात्रा में मौजूद हैं। शुद्ध हवा में अपने सभी घटक गैसों की मात्रा संतुलित है और यह हानिकारक गैसों से मुक्त है और श्वास लेने के लिए उपयुक्त है।
    दूसरी तरफ प्रदूषित वायु में अवांछित गैसों और धूल और धुएं जैसे अन्य निलंबित अशुद्धियों के बारे में है। यह साँस लेने के लिए अयोग्य है और दोनों जीवित और गैर-जीवित दोनों पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है।

    Question 6
    CBSEHHISCH8006607

    उन अवस्थाओं की व्याख्या कीजिये जिनके अम्ल वर्षा होती है। अम्ल वर्षा हमें कैसे प्रभावित करती है?

    Solution

    वर्षा के साथ जहरीले गैसों के मिश्रण के कारण अम्ल वर्षा का कारण होता है। उद्योग हानिकारक गैसों जैसे सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन करते हैं, इन गैसों में वायु में नमी उपस्थित होने और नाइट्रिक एसिड और सल्फ्यूरिक एसिड के रूप में प्रतिक्रिया होती है। ये अम्ल पृथ्वी पर गिरते हैं और वर्षा का जल अम्ल और हानिकारक बना रहता है। अम्ल वर्षा इमारतों के क्षरण का कारण बनती है और खपत के लिए अनाज, फलों और सब्जियों को अयोग्य बनाती है।

    Question 7
    CBSEHHISCH8006608

    निम्नलिखित में से कौन सी पौधा-घर गैस है?

    • कार्बन डाइआक्साइड
    • सल्फर डाइऑक्साइड
    • मीथेन
    • नाइट्रोजन

    Solution

    D.

    नाइट्रोजन
    Question 8
    CBSEHHISCH8006609

    पौधा-घर प्रभाव का अपने शब्दों में वर्णन कीजिए?

    Solution

    सूर्य की किरणें वायुमंडल से गुजरने के पश्चात पृथ्वी की सतह को गरम करती हैं। पृथ्वी पर पड़ने वाले सूर्य के विकिरणों का कुछ भाग पृथ्वी अवशोषित क्र लेती है और कुछ भाग परावर्तित होकर वापस अंतरिक्ष में लौट जाता है। परावर्तित विकिरणों का कुछ भाग वायुमंडल में रुका हुआ विकिरण पृथ्वी को और गरम करता है। सूर्य की ऊष्मा पौधा-घर में प्रवेश तो कर जाती है पर इससे बाहर नहीं निकल पाती। यही रुकी हुई ऊष्मा पौधा-घर को गरम करती है। पृथ्वी के वायुमंडल द्वारा रोके गए विकिरण यही कार्य करते हैं। यही कारण है कि उसे पौधा-घर प्रभाव कहा जाता है।इस प्रभाव के लिए उत्तरदायी गैसों में से CO2 भी एक है।
    मेथेन, नाइट्रस ऑक्साइड तथा जलवाष्प जैसी अन्य गैसें भी इस प्रभाव में योगदान करती हैं। CO2 कि भांति इन्हें भी पौधा-घर गैसें कहते हैं।

    NCERT Book Store

    NCERT Sample Papers

    Entrance Exams Preparation