विश्व जनसंख्या - वितरण, घनत्व और वृद्धि

  • Question 13
    CBSEHHIGEH12025269

    ''विश्व में बहुत अधिक स्थानों पर कम लोग और कम स्थानों पर बहुत अधिक लोग रहते है। '' पाँच उदाहरण सहित इस कथन की पुष्टि कीजिए ।

    Solution
    1. विश्व के दस सर्वाधिक आबाद देशों में विश्व की 60 प्रतिशत जनसंख्या निवास करती है।
    2. दस देशों में से छह एशिया में अवस्थित है।
    3. छ: एशियाई देशों की जनसंख्या विश्व में 292.93 करोड़ है।
    4. स. रा. अ. का उ. पूर्वी भाग, यूरोप का उ. पश्चिमी भाग द. पू. और पूर्वी एशिया के भाग अधिक घनत्व है जहां जनसंख्या घनत्व 200 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर से अधिक है।
    5. उत्तरी और द. ध्रुवो के निकट, उष्ण और शीत मरुस्थल अधिक वर्षा वाले विषुवतीय क्षेत्र आदि क्षेत्रों में जनसंरव्या घनत्व 1 व्यक्ति प्रति वर्ष किलोमीटर से कम है।
    Question 14
    CBSEHHIGEH12025270

    जनसंख्या घनत्व का क्या अर्थ है? विश्व में जनसंरव्या के वितरण को प्रभावित करने वाले भौगोलिक कारकों की उदाहरण सहित व्याख्या कीजिए ।

    Solution

    जनसंख्या का घनत्व :- जनसंख्या घनत्व को प्रतिवर्ग किमी. क्षेत्र में व्यक्तियों की संख्या के रूप में व्यक्त किया जाता है। यह एक अशोधित मापन है जिसे अंकगणितीय घनत्व के तौर पर संदर्भित किया जाता है। यह अशोधित इसलिए है क्योंकि जनसंख्या घनत्व की गणना करने में देश के पूरे क्षेत्र को शामिल किया जाता है।

    जनसंरव्या के वितरण को प्रभावित करने वाले भौगोलिक कारक यह है ।

    1. जल की उपलब्धता : जल जीवन का सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण कारक है। अत: लोग उन क्षेत्रों में बसने को प्राथमिकता देते हैं जहाँ जल आसानी से उपलब्ध होता है। जल का उपयोग पीने, नहाने और भोजन बनाने के साथ-साथ पशुओं, फसलों, उद्योगों तथा नौसंचालन में किया जाता है। यही कारण है कि नदी-घाटियाँ विश्व के सबसे सघन बसे हुए क्षेत्र हैं।
    2. भू-आकृति : लोग समतल मैदानों और मंद ढालों पर बसने को वरीयता देते हैं इसका कारण यह है कि ऐसे क्षेत्र फसलों के उत्पादन, सड़क निर्माण और उद्योगों के लिए अनुकूल होते हैं। पर्वतीय और पहाड़ी क्षेत्र परिवहन-तंत्र के विकास में अवरोधक हैं, इसलिए प्रारंभ में कृषिगत और औद्योगिक विकास के लिए अनुकूल नहीं होते। अत: इन क्षेत्रों में कम जनसंख्या पाई जाती है। गंगा का मैदान विश्व के सर्वाधिक सघन जनसंख्या वाले । क्षेत्रों में से एक हैं जबकि हिमालय के पर्वतीय भाग विरल जनसंख्या वाले क्षेत्र हैं।
    3. जलवायु : अति ऊष्ण अथवा ठंडे मरुस्थलों को विषम जलवायु मानव बसाव के लिए असुविधाजनक होती हैं। सुविधाजनक जलवायु वाले क्षेत्र जिनमें अधिक मौसमी परिवर्तन नहीं होते, अधिक लोगों को आकृष्ट करते हैं। अधिक वर्षा अथवा विषम और रुक्ष जलवायु के क्षेत्रों में कम जनसंख्या पाई जाती है। भूमध्य सागरीय प्रदेश सुखद जलवायु के कारण इतिहास के आरंभिक कालों से बसे हुए हैं।
    4. मृदाएँ : उपजाऊ मृदाएँ कृषि तथा इनसे संबंधित क्रियाओं के लिए महत्त्वपूर्ण हैं इसलिए उपजाऊ दोमट मिट्टी वाले प्रदेशों में अधिक लोग निवास करते हैं। क्योंकि ये मृदाएँ गहन कृषि का आधार बन सकती हैं।

    Question 15
    CBSEHHIGEH12025271

    विश्व में प्रवास को प्रभावित करने वाले दो कारक कौन - से है? दोनों कारकों की उदाहरण सहित व्याख्या कीजिए ।

    Solution

    विश्व में प्रवास को प्रभावित करने वाले दो कारक यह है: -

    1. प्रतिकर्ष कारक - बेरोज़गारी, रहन सहन की निम्न दशाएँ, राजनैतिक उपद्रव, प्रतिकूल जलवायु, प्राकृतिक विपदाएँ, महामारियाँ तथा सामाजिक आर्थिक स्थिति का अनुकूल न होना ।
    2. अपकर्ष कारक - रोज़गार के बेहतर अवसर और रहन सहन की अच्छी दशाएँ, शान्ति व स्थायित्व, जीवन व सम्पत्ति की सुरक्षा तथा अनुकूल जलवायु।

    Question 16
    CBSEHHIGEH12025272

    जनसंख्या परिवर्तन के ऋणात्मक प्रभाव कौन से है?

    Solution

    ह्रासमान जनसंख्या के ऋणात्मक प्रभाव :

    • संसाधनो के प्रयोग में कमी ।
    • वृद्ध जनसंख्या अर्थव्यवस्था पर दबाव बनाती है।
    • कार्यरत जनसंख्या, अर्थव्यवस्था, प्रौधोगिकी विकास का ह्रास

    बढ़ती जनसंख्या के ऋणात्मक प्रभाव :

    • भूमि पर दबाव ।
    • 18 वर्ष से कम जनसंख्या के अधिक होने से स्वास्थ्य, शिक्षा की सुविधाओं पर दबाव बढ़ जाता है।
    • गरीबी, बेरोज़गारी में वृद्धि ।
    • पर्यावरण अवकर्षण ।

    NCERT Book Store

    NCERT Sample Papers

    Entrance Exams Preparation