विदुयत

  • Question 13
    CBSEHHISCH10015248

    विद्युत परिपथ की व्यवस्था आरेख खीचिए तथा इसमें प्रतिरोधको से प्रभावित विद्युत धारा को मापने के लिए ऐमीटर तथा 12 Ω प्रतिरोधक सिरों के बीच विभवांतर मापने के लिए वोल्ट्मीटर लगाइए।ऐमीटर तथा वोल्ट्मीटर के क्या पाठ्यांक होंगे।

    Solution

    तीनों प्रतिरोधक श्रेणीक्रम में संयोजित है
    इसलिए कुल प्रतिरोधक होगा , R = 5Ω + 8Ω + 12Ω = 25Ω
    विद्युत् परिपथ में विद्युत् धारा, straight I space equals space straight V over straight R space equals space fraction numerator 6 space straight V over denominator 25 space straight capital omega end fraction = 0.24 A
    12Ω प्रतिरोधक में विभवांतर होगा;
    V = I x R  = 0.24 x 12 = 2.88 V

    Question 14
    CBSEHHISCH10015249

    जब के (a) 1Ω तथा 106 (b) 1Ω,103Ω तथा 106Ω  प्रतिरोध पार्श्वक्रम में संयोजित किए जाते हैं तो इनके तुल्य प्रतिरोध के संबंध में आप क्या निर्णय करेंगे ?

    Solution

    (a) जब के  1Ω तथा 106  प्रतिरोध पार्श्वक्रम में संयोजित किए जाते हैं तो-
    1 over straight R subscript straight P space equals space 1 over straight R subscript 1 space plus space 1 over straight R subscript 2 space equals space 1 over 1 space plus space 1 over 10 to the power of 6 space equals space fraction numerator 10 to the power of 6 space plus 1 over denominator 10 to the power of 6 end fraction
straight R subscript straight p space equals space fraction numerator begin display style 10 to the power of 6 space end style over denominator begin display style 10 to the power of 6 plus 1 end style end fraction equals space less than space 1 straight capital omega
    (b) 1Ω,103Ω तथा 106Ω पार्श्वक्रम में संयोजित किए जाते हैं तो कुल प्रतिरोध होगा-
    1 over straight R subscript straight P space equals space 1 over straight R subscript 1 plus 1 over straight R subscript 2 plus 1 over straight R subscript 3
1 over straight R subscript straight P space equals space 1 over 1 space plus space 1 over 10 space plus 1 over 10 to the power of 6 space
equals space fraction numerator 10 to the power of 8 space plus 10 to the power of 0 space plus 10 squared over denominator 10 to the power of 8 end fraction space equals space fraction numerator 10 to the power of 8 space plus 1 space plus 10 squared over denominator 10 to the power of 8 end fraction
straight R subscript straight P space equals space fraction numerator 10 to the power of 8 over denominator 10 to the power of 10 plus 1 end fraction
    इसमें भी कुल प्रतिरोध 1Ω या 1Ω से काम होगा क्योंकि पार्श्वक्रम  में लगाए हुए प्रतिरोधों का कुल प्रतिरोध उन सबमें से सबसे छोटे प्रतिरोध से भी कम होता है

    Question 15
    CBSEHHISCH10015250

    100 Ω का एक विद्युत लैंप, 50Ω का एक विद्युत टोस्टर तथा 500 Ω का एक जल फ़िल्टर 220 V के विद्युत् स्रोत से पार्श्वक्रम में संयोजित है उस विद्युत इस्तरी प्रतिरोध का क्या है जिसे यदि समान स्रोत के साथ संयोजित कर दें तो वह उतनी ही विद्युत धारा लेती  है जितनी तीनों युक्तियों लेती हैं यह भी ज्ञात कीजिए कि इस विद्युत इस्तरी से कितनी विद्युत धारा प्रवाहित होती है 

    Solution

    दिया गया हुआ है,
    विद्युत् लैंप का प्रतिरोध, R1 = 100 Ω
    टोस्टर का प्रतिरोध, R2 = 50 Ω
    जल फ़िल्टर का प्रतिरोध, R3 = 500 Ω 
    1 over straight R subscript straight P space equals space 1 over straight R subscript 1 space plus space 1 over straight R subscript 2 space plus space 1 over straight R subscript 3 space
equals 1 over 100 plus 1 over 50 plus 1 over 500
space equals space fraction numerator 5 space plus 10 plus 1 over denominator 500 end fraction space equals space 16 over 500
straight R subscript straight P space equals space 500 over 16 space equals space 125 over 4 straight capital omega
     तीनों में से प्रवाहित विद्युत् धारा , 
    straight I space equals space straight V over straight R subscript straight P space equals space fraction numerator 220 over denominator 125 divided by 4 end fraction
space equals space 7.04 space straight A

    यदि विद्युत उसी स्रोत के साथ संयोजित कर दें तो उसमें से भी समान विद्युत धारा प्रवाहित होगी इस्तरी का प्रतिरोध = straight R subscript straight P space equals space 125 over 4 straight capital omega
    तो विद्युत इस्तरी में प्रभावित होने वाली विद्युत धारा = 7.04 A

    Question 16
    CBSEHHISCH10015251

    श्रेणीक्रम में संयोजित करने के स्थान पर विद्युत् युक्तियों को पार्श्व क्रम में संयोजित करने के क्या लाभ है?

    Solution

    बैटरी और बिजली के उपकरणों को समानांतर में जोड़ने के फायदे हैं:
    1. प्रत्येक उपकरण को पूर्ण बैटरी वोल्टेज मिलता है।
    2. समानांतर सर्किट विद्युत को उपकरणों के माध्यम विभाजित करता है। प्रत्येक डिवाइस अपने प्रतिरोध के आधार पर विद्युत् प्राप्त करता है।
    3. एक उपकरण को बंद / चालू होने पर अन्य उपकरण प्रभावित नहीं होते है।

    Delhi University

    NCERT Book Store

    NCERT Sample Papers

    Entrance Exams Preparation