वैज्ञानिक चेतना के वाहक चनद्रशेखर वेंकट रामन - धीरंजन मालवे

  • Question 17
    CBSEENHN9000550

    निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर (50-60 शब्दों में) लिखिए-
    (ख) 
    रामन् के प्रारम्भिक शोधकार्य को आधुनिक हठयोग क्यों कहा गया है?

    Solution
    रामन् के प्रारम्भिक शोधकार्यों को आधुनिक हठयोग इसलिए कहा गया है क्योंकि उनकी परिस्थितियाँ बिलकुल विपरीत थीं। वे बहुत महत्त्वपूर्ण तथा व्यस्त नौकरी पर थे। उन्हें हर प्रकार की सुख-सुविधा प्राप्त हो गई थी। समय की कमी थी। स्वतन्त्र शोध के लिए पर्याप्त सुविधाएँ नहीं थी। ले देकर कलकत्ता में एक छोटी सी प्रयोगशाला ही थी जिसमें बहुत कम उपकरण थे। ऐसी विपरीत परिस्थितियों में शोध कार्य दृढ़ इच्छा शक्ति से ही संभव था। यह रामन् के मन का दृढ़ हठ था जिसके कारण वे शोध जारी रख सके। इसलिए उनके प्रारम्भिक शोधकार्यों को आधुनिक हठयोग कहा है। यह हठयोग विज्ञान से संबंधित था इसलिए आधुनिक कहना उचित था।
    Question 18
    CBSEENHN9000551

    (ख) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर (50-60 शब्दों में) लिखिए-
     रामन् की खोज ‘रामन प्रभाव’ क्या है? स्पष्ट कीजिए?

    Solution
    रामन् की खोज को ‘रामन्-प्रभाव’ के नाम को जाना जाता है। रामन् ने अनेक ठोस और तरल पदार्थों पर प्रकाश की किरणों का अध्ययन किया। उन्होंने पाया कि जब एक-एक वर्णीय प्रकाश की किरण किसी तरल या रवेदार पदार्थ से गुजरती है तो गुजरने के बाद उसके वर्ण में परिवर्तन आ जाता है। ऐसा इसलिए होता है क्याकि जब एकवर्णीय प्रकाश की किरण के फोटान तरल या रवेदार पदार्थ को गुजरते हुए उनके अणुओं से टकराते हैं तो इस टकराव के परिणाम से या तो ये ऊर्जा काम कुछ अंश पा जाते हैं या कुछ खो देते हैं। दोनों ही स्थितियाँ प्रकाश के वर्ण में बदलाव लाती हैं। एक वर्णीय प्रकाश तरल या ठोस रवों से से गुरजते हुए जिस परिणाम में ऊर्जा खोता या पाता है उसी के अनुसार उसका वर्ग परिवर्तित हो जाता है।
    Question 19
    CBSEENHN9000552

    (ख) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर (50-60 शब्दों में) लिखिए-
     ‘रामन् प्रभाव’ की खोज से विज्ञान के क्षेत्र में कौन-कौन से कार्य सभंव हो सके?

    Solution

    रामन् की खोज की वजह से पदार्थों के अणुओं और परमाणुओं की आतरिक संरचना का अध्ययन सहज हो गया। पहले इस काम के ‘इंफ्रारेड स्पेक्ट्रोस्कोपी’ का सहारा लिया जाता था। यह मुश्किल तकनीक है और गलतियों की संभावना बहुत अधिक रहती है। रामन् की खोज के बाद पदार्थो की आणविक और परमाणिविक संरचना के अध्ययन के लिए रामन् ‘स्पेक्ट्रोस्कोपी’ का सहारा लिया जाने लगा। यह तकनीक एकवर्णीय प्रकाश के वर्ण में परिवर्तन के आधार पर पदार्थों के अणुओं और परमाणुओं की संरचना की सटीक जानकारी देती है। इस जानकारी के कारण पदार्थों का संश्लेषण करना तथा अनेक उपयोगी पदार्थों का कृत्रिम रूप से निर्माण संभव हो सका।

    Question 20
    CBSEENHN9000553

    (ख) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर (50-60 शब्दों में) लिखिए-
     देश को वैज्ञानिक दृष्टि और चिंतन प्रदान करने में सर चंद्रशेखर वेंकट रामन् के महत्वपूर्ण योगदान पर प्रकाश डालिए।

    Solution
    रामन् के अंदर एक राष्ट्रीय चेतना थी तथा वे देश में वैज्ञानिक दृष्टिकोण और चिंतन के विकास के प्रति समर्पित थे। उन्हें अपने शुरुआती दिन हमेशा ही याद रहे जब उन्हें संघर्ष करना पड़ा। इसलिए उन्होंने एक अत्यन्त उन्नत प्रयोगशाला और शोध संस्थान की स्थापना की जो बंगलौर में स्थित है और उन्हीं के नाम पर अर्थात् ‘रामन् रिसर्च इंस्टीट्‌यूट’ के नाम से जानी जाती है। भौतिकी में अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए उन्होंने ‘इंडियन जनरल ऑफ फिजिक्स’ नामक शोध-पत्रिका आरम्भ की। विज्ञान के प्रचार-प्रसार के लिए वे ‘करंट साइंस’ नामक पत्रिका का संपादन करते थे। रामन् केवल प्रकाश की किरणों तक ही नहीं सिमटे थे। उन्होंने अपने व्यक्तित्व के प्रकाश से पूरे देश को आलोकित और प्रकाशित किया।

    NCERT Book Store

    NCERT Sample Papers

    Entrance Exams Preparation